Poojya Acharya Bal Krishan Ji Maharaj


10896900_880393665338547_228294653431855495_n.jpg?oh=4036689c1f8dadf6e98a5c6267665c50&oe=5527485A&__gda__=1428387227_e1b3676f1a6f3adcd66d6f71b63d5982

ओ३म् का उच्चारण है चमत्कारिक !!

१- ओ३म् के उच्चारण मात्र से मृत कोशिकाएँ जीवित हो जाती है |

२- मन के नकारात्मक भाव सकारात्मक में परिवर्तित हो जाते है |

३- तनाव से मुक्ति मिलती है |

४- स्टेरॉयड का स्तर कम हो जाता है |

५- चेहरे के भाव तथा हमारे आसपास के वातावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है |

६- मस्तिष्क में सकारात्मक परिवर्तन होते हैं तथा हृदय स्वस्थ होता है |

10858609_879018552142725_6935262961503885466_n.jpg?oh=b47cefc9b7e5afc5e042fc0be2ef7d6f&oe=55472BC8&__gda__=1429630228_cc59c19e3dbef0607be4a406b887fbf1

इन दिनों दिनों बाज़ार में खूब बथुए का साग आ रहा है। आइए जानते हैं इसके कुछ गुणों के विषय में –

– बथुआ संस्कृत भाषा में वास्तुक और क्षारपत्र के नाम से जाना जाता है | यह एक ऐसा साग है, जो गुणों की खान होने पर भी बिना किसी विशेष परिश्रम और देखभाल के खेतों में स्वत: ही उग जाता है। एक डेढ़ फुट का यह हराभरा पौधा कितने ही गुणों से भरपूर है। बथुए का साग पचने में हल्का ,रूचि उत्पन्न करने वाला, शुक्र को बढ़ाने वाला है | यह तीनों दोषों को शांत करके उनसे उत्पन्न विकारों का शमन करता है |

१- यह पथरी के रोग के लिए बहुत अच्छी औषधि है . इसके लिए इसका 10-15 ग्राम रस प्रातः सांय लिया जा सकता है |

२- किडनी की समस्या हो जोड़ों में दर्द या सूजन हो ; तो इसके साग के सेवन से लाभ होता है |

३- खून की कमी होने पर इसके पत्तों के 25 ग्राम रस में पानी मिलाकर पीने से लाभ होता है |

४- सामान्य दुर्बलता, बुखार के बाद की अरुचि और कमजोरी में इसका साग खाना हितकारी है।

५- धातु दुर्बलता में भी बथुए का साग खाना लाभकारी है।

६ -इसका साग खाने से बवासीर में लाभ होता है।

xRBL9R1K5Po.pngKrishnamurthy Hariharan

10590490_878921962152384_1353402299034646383_n.jpg?oh=e32db23531132f8bc8f26d543d1f971b&oe=5526B048&__gda__=1429846654_01acb052c5b8dc6172f9ad15bed31ea5

१- यदि आपका ब्लड प्रेशर लो रहता है, तो प्रतिदिन तीन दाने कालीमिर्च के साथ 21 दाने किशमिश का सेवन करे।
२- जुकाम होने पर कालीमिर्च के चार-पांच दाने पीसकर एक कप दूध में पकाकर सुबह-शाम लेने से लाभ मिलता है।
३- एक चम्मच शहद में 2-3 बारीक कुटी हुई कालीमिर्च और एक चुटकी हल्दी पाउडर मिलाकर लेने से कफ में राहत मिलती है।
४- इससे शरीर की थकावट दूर होती है। कालीमिर्च से गले की खराश दूर होती है।
५- इससे रक्त संचार सुधरता है।यह दिमाग के लिए फायदेमंद होती है। गैस के कारण पेट फूलने पर कालीमिर्च असरदार होती है। इससे गैस दूर होती है।
६-कालीमिर्च की चाय पीने से सर्दी-ज़ुकाम, खाँसी और वायरल इंफेक्शन में राहत मिलती है। कालीमिर्च पाचनक्रिया में सहायक होती है।
७- कालीमिर्च सभी प्रकार के संक्रमण में लाभ देती है।

10440254_880406245337289_7017140156510961897_n.jpg?oh=53ffa8b1b993b250bd16de78820dd848&oe=5537F75F&__gda__=1430537954_14c0b2b47d6661b16506db8fb41c2f4e


परोपकाराय फलन्ति वृक्षा: परोपकाराय वहन्ति नद्यः।


परोपकाराय दुहन्ति गावः परोपकाराय इदं शरीरम्।।






0001.gif

om2.gif
h.gifa.gifr.gifi.gifh.gifa.gifr.gifa.gifn.gifk.gif ( hari krishnamurthy K. HARIHARAN)"

” When people hurt you Over and Over think of them as Sand paper.
They Scratch & hurt you, but in the end you are polished and they are finished. ”
"Keep away from people who try to belittle your ambitions. Small people always do that, but the really great ones make you feel that you too, can become great."- Mark Twain.

யாம் பெற்ற இன்பம்
பெருக வையகம்
visit my blog https://harikrishnamurthy.wordpress.com
follow me @twitter lokakshema_hari
http://harikrishnamurthy.typepad.com
http://hariharan60.blogspot.in
http://facebook.com/krishnamurthy.hari

VISIT MY PAGE https://www.facebook.com/K.Hariharan60 AND LIKE

Published by

harikrishnamurthy

a happy go lucky person by nature,committed to serve others and remove their sufferings through all possible help. POSTS IN MY BLOG ARE MY OWN OPINION, COLLECTIONS OF INTERESTING ARTICLES FROM FROM VARIOUS SOURCES. MY ONLY AIM IS TO SHARE GOOD THINGS WITH OTHERS WHICH MAY BE USEFUL TO OTHERS AND NOT TO HURT ANY ONE'S FEELINGS. If you like my blog, like me,follow me, share with others, reblog If you have some suggestions post comments your suggestions and comments are eagerly awaited

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s